उत्कल प्रादेशिक मारवाड़ी सम्मेलन कटक शाखा की प्रथम कार्यकारिणी सभा सम्पन्न

कटक : उत्कल प्रादेशिक मारवाड़ी सम्मेलन कटक शाखा की प्रथम कार्यकारिणी सभा दिनांक 21.02.2021 रविवार को तेलेंगा बजार (रघुनाथ जी लेन) स्थित कार्यालय में आयोजित की गई।

सर्वप्रथम कार्यकारी सचिव विजय अग्रवाल ने मंचासीन महानुभावों से महाप्रभु जगन्नाथ के समक्ष दीप प्रज्वलित कर सभा शुरू करने का आग्रह करते हुए कार्यक्रम की शुरुआत की।

अध्यक्ष सुरेश कमानी ने सभी उपस्थित संगठन के सदस्यों का अभिवादन करते हुए सुक्ष्म रुप से विगत दिनों में सम्मेलन द्वारा किए गए कार्यों का उल्लेख किया एवं समिति के सदस्य, कार्यकर्ताओं एवं दानदाताओं का अशेष धन्यवाद ज्ञापन किया, जिनके सहयोग से सम्मेलन के सभी कार्यो को किया गया।

संस्थापक अध्यक्ष श्री सूर्यकांत जी सांगनेरिया ने सभी पदाधिकारी एवं सदस्यों को धन्यवाद दिया। उन्होंने अपने उद्बोधन में कहा कि कोरोना महामारी के भीषण प्रकोप के दौरान सम्मेलन द्वारा संचालित सभी काम सुचारू रूप से चलते रहे। कोरोना महामारी एवं सरकारी नियमों की वजह से सभा नहीं बुलाई जा सकती थी, जिसके लिए उन्होंने खेद प्रकट किया।

सचिव दिनेश जोशी द्वारा समिति के कार्यों का पुरा विवरण दिया गया। उन्होंने ने 2020-22 सत्र के यु पी एम एस, कटक शाखा की पुरी टीम की घोषणा यथा पदाधिकारी, उपाध्यक्ष, सह सचिव, कार्यकारिणी सदस्यों, सलाहकार समिति एवं संचालन समिति के सदस्यों के नाम उपस्थित गणमान्य महानुभावों एवं सदस्यों के समक्ष की।

पूर्वतन प्रांतीय अध्यक्ष श्री विनोद जी टिबडेवाल ने अपने आशीर्वचन में कहा कि सभी कार्यो की सूचना निरंतर उन्हें वाट्सअप के माध्यम से मिलती रही। मारवाड़ी सम्मेलन एवं समुदाय द्वारा किए गए कार्यों की प्रशंसा करते हुए कहा कि टीम यु पी एम एस कटक शाखा ने रिस्क लेकर एक दुसरे के साथ मिलकर सभी कार्य को किया। जिसके लिए वे सभी साधुवाद के पात्र हैं। कोरोना काल में सभी ने अपने परिवार को समय दिया, अपनी समीक्षा की, सरकारी महकमे को पैसे की कमी के कारण, मारवाड़ी आर्थिक नीतियों से पैसे की कीमत का पता चला। अपने सुझाव में उन्होंने समिति से कहा कि सुदूर नीति के तहत कार्य एवं प्रकल्प के बारे में सोचना होगा। नई शिक्षा प्रणाली आगे बढ़ रही है। राष्ट्रीय भावना से ओत-प्रोत विचारधारा विकसित हो रही है।जिसके लिए एढोप्ट ए स्कूल के लिए सुझाव भी दिया।

वरिष्ठ सलाहकार एवं समाजसेवी मोहन लाल जी सिंघी ने अपने बक्तव्य में कहा कि हम मारवाड़ी होने पर गोरवंदित महसूस करते हैं।जीवन में पैसा ही सब कुछ नहीं है। मारवाड़ी समाज को स्थाई काम को अंजाम देने के लिए सोचना चाहिए।उन्होंने कहा कि कार्यकर्ताओं ने परिवार को छोड़कर सभी काम को अंजाम दिया।जिसके लिए मैं दिल से उनका अभिवादन करता हूँ।

नंदगांव गौशाला के चेयरमैन श्री नथमल चनानी ने अपने अभिभाषण में कहा कि परहित सरस धर्म नहीं भाई। राजस्थानी भाषा को राष्ट्रीय स्तर पर स्थान मिलने पर हार्दिक बधाई एवं मंगल शुभकामनाऐं दी। उन्होंने कहा कि बड़ी सोच के साथ कोई बड़ा प्रोजेक्ट लांच किया जाए जिसमें सभी मिलकर काम करेंगे।जिससे आने वाली पीढ़ी को प्रेरणा मिले।

वरिष्ठ नागरिक श्री श्याम सुंदर पोद्दार ने कहा कि मारवाड़ी समुदाय को अपनी भाषा को लेकर चेतना एवं जागरूकता फैलानी चाहिए। मारवाड़ी में अपना भाषण देते हुए उन्होंने भावुक होकर कहा कि हमारे समुदाय को नई शिक्षा निती एवं इंडस्ट्री को बढ़ावा देना चाहिए।क्योंकि हमारे समाज के बच्चे सामान्य नोकरी के पीछे भाग रहे हैं।

समाज के गणमान्य व्यक्ति श्री कमल जी सिकरिया, श्री नंद किशोर जी जोशी, श्री पदम भावसिंका, श्री पुरुषोत्तम अग्रवाल ने भी अपने विचार व्यक्त किए।

इस दौरान सम्मेलन द्वारा आगामी दिनों में किये जाने वाले समाजिक कार्यों यथा होली का रंगारंग कार्यक्रम, हेल्थ चेकअप केम्प, रथयात्रा केम्प पर विस्तृत चर्चा के बाद प्रस्ताव पारित किया गया।

इस सभा को सफल बनाने में श्री पवन तायल, श्री रमेश कुमार चौधरी, श्री दीनबंधु खांडल, श्री निर्मल पुर्वा, श्री राजकुमार सुल्तानिया,श्री महावीर मुदंडा, श्री पवन चौधरी,श्री काशी नाथ बथवाल, श्री पप्पू सांगनेरिया, श्री जोगिंदर अग्रवाल, श्री सरोज कुमार सुंदरका श्री राजकुमार शर्मा, श्री मनोज विजयवर्गीय आदि सदस्यों का विशेष सहयोग रहा।

अंत में विजय अग्रवाल ने सैकड़ों की संख्या में उपस्थित सम्मेलन के सदस्यों एवं समाज के अन्य संस्थाओं के पदाधिकारियों का आभार व्यक्त करते हुए कार्यक्रम को विराम दिया एवं सहभोज लेने का आग्रह किया

You may have missed